Friday, September 19, 2008

माँ का गीत

अगर तू सूर्य होता
तो दिनभर आसमान में जलता रहता
अगर तू चाँद होता तो
पूर्णिमा से एकम तक तुझे
रोज कसाई के कत्ते से कटना पड़ता
अगर तू तारा होता तो मेरे लाल
मुझसे कितना दूर होता
अच्छा हुआ तू बद्रीनारायण हुआ

1 comment:

shipsag said...

माँ के दिल की बात को काफी हल्के-फुल्के तरीके से कह दिया आपने, खुद को मुस्कुराने से रोक नहीं पायी